NCERT Solutions 4th Hindi Lesson 11-पढ़क्कू की सूझ

अध्याय 11- पढ़क्कू की सूझ

lesson-11 Padhakku Kee Sujh

कक्षा 4 हिन्दी | रिमझिम

NCERT Solutions 4th Hindi Lesson 11-पढ़क्कू की सूझ (Padhakku kee sujh) यह सामग्री सिर्फ संदर्भ के लिए है। आप अपने विवेक से तथा  अपने अनुसार प्रयोग करें। विद्यार्थियों की आवश्यकताओं के अनुसार परिवर्तन आवश्यक है । पुस्तक में चर्चा की बहुत गुंजाईश है। उसका पूरा लाभ उठाएँ । बच्चों को भी भाषा का पूरा आनंद लेने के लिए प्रेरित करें।

 पाठ से प्रश्न-उत्तर NCERT Solutions 4th Hindi Lesson 11-पढ़क्कू की सूझ

Page no. 94

कविता में कहानी

 प्रश्न 1 पढ़क्कू की सूझकविता में एक कहानी कही गई है। इस कहानी को तुम अपने शब्दों में लिखो।

उत्तर 1  एक बहुत तेज़ तर्कशास्त्री थे पढ़क्कू। बहुत बातूनी थे। कोल्हू के बैलों को अकेले में घूमते देख बड़े परेशान हुए। उन्हें लगा मालिक ने इनको कोई तरीका सिखाया होगा। एक दिन मालिक से पूछ लिया कि उसे कैसे पता चलता है कि बैल घूम रहे है। उसने बताया कि गले में घंटी बंधी है। जब तक बजती रहेगी मतलब वो घूम रहे हैं। अगर न बजे तो मैं उनको चलाता हूँ। पढ़क्कू ने अपना दिमाग लगाया और पूछा अगर बैल अड़ जाये और खड़े- खड़े सर हिलाता रहे तो घंटी बजती रहेगी पर तेल नहीं निकलेगा। यह सुन कर मालिक हँसते हुए बोला ये मेरे बैल हैं तुम्हारी तरह इन्होने तर्कशास्त्र नहीं पढ़ा है।

कवि की कविताएँ

तीसरी कक्षा में तुमने रामधारी सिंह दिनकर की कविता ‘मिर्च का मज़ा’ पढ़ी थी। अब तुमने उन्हीं की कविता ‘पढ़क्कू की सूझ’ पढ़ी।

प्रश्न (क) दोनों में से कौन-सी कविता पढ़कर तुम्हें ज़्यादा मज़ा आया?

उत्तर (क) मुझे ‘पढ़क्कू की सूझ’ कविता पढ़ कर ज़्यादा मज़ा आया।

प्रश्न (ख) तुम्हें काबुली वाला ज्यादा अच्छा लगा या पढ़क्कू? या कोई भी अच्छा नहीं लगा।

उत्तर (ख) मुझे काबुली वाला ज्यादा अच्छा लगा।

प्रश्न (ग) अपने साथियों के साथ मिलकर एक-एक कविता हूँढो। कविताएँ इकट्ठा करके कविता की एक किताब बनाओ।

उत्तर (ग) यह कार्य विद्यार्थियों को स्वयं करने को कहें। आप उनकी सहायता कर सकते हैं।

मेहनत के मुहावरे

प्रश्न 1 कोल्हू का बैल ऐसे व्यक्ति को कहते हैं जो कड़ी मेहनत करता है या जिससे कड़ी मेहनत करवाई जाती है। मेहनत और कोशिश से जुड़े कुछ और मुहावरे नीचे लिखे हैं। इनका वाक्यों में इस्तेमाल करो।

उत्तर 1 दिन-रात एक करना– स्नेहा खो-खो टीम में शामिल होने के लिए दिन-रात एक कर रही है।

2 पसीना बहाना- अक्षय ने साइकिल सीखने के लिए खूब पसीना बहाया है।

3 एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाना- मुस्कान पेड़ पर चढ़ने के लिए एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा रही है।

Page no. 95

पढ़क्कू

प्रश्न (क) पढ़क्कू का नाम पढ़क्कू क्यों पड़ा होगा?

उत्तर (क) वह हर समय किताबें पढ़ता होगा। इसलिए उसका नाम पढ़क्कू पड़ा होगा।

प्रश्न (ख) तुम कौन-सा काम खूब मन से करना चाहते हो? उसके आधार पर
अपने लिए भी पढ़क्कू जैसा कोई शब्द सोचो।

उत्तर (ख) मैं कहानियाँ मन लगा कर लिखना चाहता हूँ। मेरे लिए शब्द होगा ‘ ‘कहानीकार’।

अपना तरीका

प्रश्न 1 हाँ जब बजती नहीं, दौड़कर तनिक पूँछ धरता हूँ पूँछ धरता हूँ का मतलब है पूँछ पकड़ लेता हूँ। नीचे लिखे वाक्यों को अपने शब्दों में लिखो।

उत्तर 1

  • मगर बूंद भर तेल साँझ तक भी क्या तुम पाओगे?

उत्तर (क) तुम्हें शाम तक बूँद भर तेल भी नहीं मिलेगा।

  • बैल हमारा नहीं अभी तक मंतिख पढ़ पाया है।

उत्तर (ख) हमारे बैलों ने अभी तक तर्कशास्त्र नहीं पढ़ा है।

  • सिखा बैल को रखा इसने निश्चय कोई ढब है।

उत्तर (ग) इसने बैल को जरूर कोई तरकीब सिखा रखी है।

  • जहाँ न कोई बात, वहाँ भी नई बात गढ़ते थे।

उत्तर (घ) जहाँ कोई बात न हो वहाँ भी कोई न कोई बात बना लेते थे।

गढ़ना

प्रश्न 1 पढ़क्कू नई-नई बातें गढ़ते थे। बताओ, ये लोग क्या गढ़ते हैं?

उत्तर 1

लोग क्या गढ़ते हैं लोग क्या गढ़ते हैं
सुनार सोना कवि कविता
लुहार लोहा कुम्हार मिट्टी के बर्तन
लेखक कहानी ठठेरा बर्तन (धातु)

Page no. 96

अर्थ खोजो

प्रश्न (क) नीचे दिए गए शब्दों के अर्थ अक्षरजाल में खोजो-

ढब, भेद, गज़ब, मंतिख, छल

उत्तर (क)

र्क शा स्त्र म्र
रा
जू री मा धो
रा का खा
धो
अन्य सामग्री:- NCERT Solutions 5th Hindi Chapter 10-एक दिन की बादशाहत

NCERT Solutions 4th Hindi Lesson 11-पढ़क्कू की सूझ (Padhakku kee sujh) यह सामग्री सिर्फ संदर्भ के लिए है। आप अपने विवेक से तथा  अपने अनुसार प्रयोग करें। विद्यार्थियों की आवश्यकताओं के अनुसार परिवर्तन आवश्यक है । पुस्तक में चर्चा की बहुत गुंजाईश है। उसका पूरा लाभ उठाएँ । बच्चों को भी भाषा का पूरा आनंद लेने के लिए प्रेरित करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *