NCERT Solutions class 5th EVS chapeter-4 खाएँ  आम बारहों महीने

Share

 

अध्याय 4 खाएँ आम बारहों महीने!

lesson-4 khayen aam barhon mahine 

कक्षा 5 पर्यावरण अध्ययन | आस-पास

NCERT Solutions class 5th EVS chapeter-4 खाएँ  आम बारहों महीने (Khayen aam barhon mahine ) (CBSE) यह सामग्री संदर्भ के लिए है। आप अपने विवेक से प्रयोग करें। अध्याय में विद्यार्थी के अनुसार बदलाव जरूरी है। पुस्तकों में  चर्चा के लिए बहुत स्थान हैं। उनका प्रयोग अवश्य करें । यह उद्देश्य भी है। सिर्फ  लिखना पर्यावरण को समझने-समझाने का सही तरीका नहीं हो सकता। 

NCERT Solutions class 5th EVS chapeter-4 खाएँ  आम बारहों महीने |पाठ्य पुस्तक प्रश्न-उत्तर

पृष्ठ संख्या 35

प्रश्न1 अमन को क्यों लगा कि आलू खराब हो गए हैं?

उत्तर 1 अमन को आलू से बदबू आई। इसलिए उसे लगा की आलू ख़राब हो गए हैं।  

प्रश्न 2 क्या तुमने कभी ऐसा खाना देखा है जो खराब हो गया हो? तुम्हें कैसे पता चला कि वह खराब हो गया है?

उत्तर 2 हाँ, मैंने कई बार ख़राब खाना देखा है। खाने से आती बदबू से पता चला की वह ख़राब हो गया है।

प्रश्न 3 प्रीति ने नीतू को आलू खाने से मना किया। तुम्हें क्या लगता है। कि यदि नीतू वह खा लेती तो क्या होता?

उत्तर 3 नीतू ख़राब आलू खाने से बीमार हो जाती।

पृष्ठ संख्या 36

लिखो

प्रश्न 1 रसोईघर में से खाने-पीने की कुछ चीजें चुनकर लिखो

उत्तर 1

-जो दो-तीन दिन में खराब हो सकती हैं- सब्जी, दूध, ब्रेड, पके चावल आदि।

-हफ़्ते भर तक खराब नहीं होंगी- चटनी, कटर, शकरपारे, सौस आदि।

-महीने भर तक खराब नहीं होंगी- आटा, गुड़, सौस, घी, चावल, दाल, बिस्किट आदि।

प्रश्न 2 अपने दोस्त की सूची देखो और उस पर चर्चा करो।

उत्तर 2 विद्यार्थी दूसरे विद्यार्थियों की सूची देख कर चर्चा करें। यह जांचें की क्या सभी ने एक सी चीज़ें लिखी है या अलग। जो भिन्न हो उनको अपनी सूची में जोड़ें।

प्रश्न 3 क्या तुम्हारी सूची हर मौसम में यही रहेगी? क्या बदलेगा?   

उत्तर 3  गर्मियों में खाना जल्दी ख़राब होता है। सर्दियों में जल्दी ख़राब नहीं होता। इसलिए मेरी सूची मौसम के हिसाब से बदल जाएगी।

प्रश्न 4 तुम्हारे घर पर खाना खराब हो जाता है तो तुम उसका क्या करते हो?

उत्तर बहुत कम बार हमारे घर पर खाना ख़राब होता  है। अगर ऐसा हो तो हम उसे कूड़ेदान में फेंक देते है।

बीजी ने लौटाई ब्रेड

प्रश्न 5 क्या तुम पैकेट की तस्वीर देखकर अनुमान लगा सकते हो कि बीजी ने पैकेट क्यों लौटा दिया होगा?

उत्तर 5 इस तस्वीर में ब्रेड पर धब्बे नज़र आ रहे हैं। यह फूली हुई भी लग रही है। इसलिए बीजी ने लौटा दी होगी।

प्रश्न 6 उन्हें ब्रेड खराब क्यों लगी?

उत्तर 6 उन्होंने ब्रेड पर फफूंदी के धब्बे देखे। वह फूल सी गई थी। जिससे उन्हें पता लगा की वह ख़राब है।

पता करो

प्रश्न 7 पैकेट पर दी गई जानकारी से हमें क्या-क्या पता चलता है?

उत्तर 7 पैकेट पर दी गई जानकारी से यह पता चलता है- उसका मूल्य क्या है? उसका वज़न कितना है? उसमे क्या-क्या इस्तेमाल हुआ है? यह कब बनी है? कब तक प्रयोग हो सकती है?

प्रश्न 8 जब तुम बाज़ार से कोई सामान खरीदते हो तो पैकेट पर लिखी कौन-सी जानकारी देखते हो?

उत्तर 8 बाज़ार से सामान खरीदते समय हम उसका मूल्य, वज़न, बनने की तारीख़,कब तक  उपयोग हो सकती है देखते हैं।

पृष्ठ संख्या 37

खाना कैसे होता है खराब

ब्रेड में क्या-क्या बदलाव हुए निम्न तालिका में नोट करो प्रयोग की जानकारी पाठ्यपुस्तक में देखें

 पुस्तक में दी गई तालिका में अपने प्रयोग की जानकारी भरें।

प्रश्न 1 पता करो, इस बदलाव का क्या कारण हो सकता है? ब्रेड पर फफूदी कहाँ सेआई होगी?

उत्तर 1 ब्रेड के सड़ने से यह बदलाव आए। फफूंद के जीवाणु वायु में रहते है। वहीँ से ये ब्रेड पर आए होंगें।

प्रश्न 2 अलग-अलग खाना कई तरह से खराब हो सकता है। कुछ खाना जल्दी खराब होता है, तो कुछ देर में। खाना किन कारणों से और किन स्थितियों में जल्दी खराब हो सकता है, उसकी सूची बनाओ।

उत्तर 2 भोजन बरसात तथा गर्मियों में जल्दी ख़राब होता है। गीली चीजें जल्दी और सूखी चीज़ें देर से ख़राब होती हैं। खाना ख़राब होने की स्थितियाँ:

1 भोजन को नमी में रखने से।

2 भोजन को गर्म जगह पर रखने से।

3 खाना साफ़ बर्तन में न रखने से।

4 खाना सही ढंग से न पकाने पर।

5 कुछ चीजें खुले में रखने पर।

6 कुछ चीज़ें बिना हवा की जगह रखने पर।

पृष्ठ संख्या 38

मिलान करो  

प्रश्न 1 दी गई तालिका में एक तरफ़ खाने की कुछ चीज़ों के नाम हैं और दूसरी तरफ़ उन्हें एक-दो दिन तक खराब होने से बचाने के कुछ घरेलू उपाय। खाने की चीज़ों का उनके उपाय से लाइन बनाकर मिलान करो।

उत्तर 1

चीजें घरेलू उपाय
दूध उबालते हैं।
पके हुए चावल एक कटोरे में डालकर पानी के बर्तन में रखते हैं।
हरा धनिया गीले कपड़े में लपेटकर रखते हैं।
प्याज, लहसुन खुले में रखते हैं, नमी से बचाकर।

पृष्ठ संख्या 40

लिखो (NCERT Solutions class 5th EVS chapeter-4 खाएँ  आम बारहों महीने)

प्रश्न 1 आम के गूदे में गुड़ और चीनी मिलाकर धूप में क्यों सुखाया होगा?

उत्तर 1 आम के गुदे में गुड़ और चीनी मिलाकर धूप में इसलिए सुखाया क्योंकि गुड़ और चीनी आम को ख़राब नहीं होने देंगी। धूप से नमी नहीं रहेगी।

प्रश्न 2 बाबा ने आमपापड़ बनाने के लिए सबसे पके हुए आम पहले क्यों छाँटे?

उत्तर 2 पके हुए आमों में रेशे कम होते हैं। तान्ड्रा के लिए रेशे सही नहीं होते। इसलिए बाबा ने पके आम छांटे।

प्रश्न 3 भाइयों ने मामिडी तान्ड्रा कैसे बनाया? अलग-अलग चरण समझाओ।

उत्तर 3

1 पहले पके आम छाँटे।

2 आम का गुदा निकला।

3 आम के गुदे को कपड़े से छान लिया।

4 उसमें गुड़ और चीनी अच्छे से मिलाया।

5 इस घोल की पतली परत चटाई पर फैलाई जिसे धुप में बिछाया था।

6  अगले दो-तीं दिनों तक यह परत बार-बार चढ़ाई गई।

7 कुछ दिनों तक इसे सूखने दिया।

8 सूखने पर उस मोती परत को छोटे टुकड़ों में काटा गया।

इस प्रकार मामिडी तान्ड्रा तैयार हो गया।

पृष्ठ संख्या 41

आम से क्या-क्या बने

प्रश्न 1 तुम्हारे घर में कच्चे व पके हुए आम से क्या-क्या बनाते हैं?

उत्तर 1 हमारे घर में आम से चटनी, अचार, आम पापड़, शेक, जूस आदि बनता है।

प्रश्न 2 तुम्हें कितनी तरह के अचार के बारे में पता है? सूची बनाओ तथा कक्षा में साथियों से उस पर बात-चीत करो।

उत्तर 2 मुझे नींबू, आँवला, गोभी, कचनार, गाजर-मूली, मिर्च, लहसुन, अरबी, जिमीकंद, खट्टे के अचार के बारे में पता है।

पता करो और चर्चा करो

प्रश्न 3 क्या तुम्हारे घर पर कोई अचार बनाता है? कौन-सा अचार, कौन बनाता है? उन्होंने यह तरीका किससे सीखा?

उत्तर 3 हाँ, मेरे घर में आँवले का अचार बनता है। मेरी माता जी बनाती है। उन्होंने यह नानी जी से सीखा है।

प्रश्न 4 तुम्हारे घर में बनने वाले किसी एक अचार बनाने में किन चीजों का इस्तेमाल होता है? अचार बनाने का क्या-क्या तरीका है?

उत्तर 4 मेरे घर में आम का अचार बनता है।

आम का अचार बनाने का तरीका

सामग्री:

आम, हींग, हल्दी, मेथी, सरसों, सौंफ, अजवायन, कलौंजी, लाल मिर्च, नमक, गुड़, सरसों तेल आदि।

विधि: आम को छोटे टुकड़ों में काटें। सभी मसाले आम के टुकड़ों में अच्छी तरह मिलाएं। स्वादानुसार मिर्च, नमक और गुड़ डालें। अच्छे ढंग से मिलाएं। अंत में सरसों का तेल गर्म करके डालें। साफ और सूखे डिब्बे में डाल कर ढक्कन ढंग से बंद कर दें। कुछ दिनों में अचार तैयार हो जायेगा। तैयार होने पर अचार का स्वाद लें।

प्रश्न 5 पापड़, चटनी, बड़ियाँ, सॉस आदि तुम्हारे यहाँ कैसे बनाते हैं?

उत्तर 5 मेरे घर में अक्सर पुदीने की चटनी बनती है।

पुदीने की चटनी बनाने की विधि:-

सामग्री:- पुदीना, प्याज़, लहसुन, नमक, हरा धनिया, अदरक, हरी मिर्च, जीरा, अनारदाना, चीनी आदि।

विधि:- सबसे पहले जीरा और अनारदाना पीस लें। उसमें प्याज़, लहसुन, अदरक, हरी मिर्च और पुदीने के पत्ते धो कर  पीसें। स्वाद अनुसार नमक डालें। थोड़ी सी चीनी भी डालें। थोड़ा पानी डालकर खूब बारीक कर लें। अच्छा लगे तो लस्सी मिला सकते हैं। लीजिये आपकी चटपटी चटनी तैयार। खाइए और मज़े लीजिये।

प्रश्न 6 पुणे से कोलकाता तक रेलगाड़ी से जाने में दो दिन लगते हैं। अगर तुम्हें उस सफ़र में जाना हो तो तुम खाने में क्या ले जाना पसंद करोगे? उसको पैक कैसे करोगे? सब मिलकर ब्लैकबोर्ड पर एक सूची बनाओ। सबसे पहले क्या खाओगे?

उत्तर 6 मैं, बिस्किट, नमकीन, परांठा, कटर, फल, मेवे, सब्जी ले जाऊँगी। उन्हे सही ढंग से सूखे डिब्बों में बंद करके पैक करूंगी। सबसे पहले पराँठा,फल और सब्जी खाऊँगी।

हम क्या समझे

प्रश्न 7 शीशियों में अचार रखने से पहले शीशियों को धूप में सुखाया जाता है। क्यों? अगर किसी शीशी में थोड़ा पानी रह जाए तो क्या होगा? (क्या तुम्हें ब्रेड वाला प्रयोग याद है?)

उत्तर 7 शीशियों को सुखाने से उसमें नमी नहीं रहती। अगर नमी रह जाए तो उसमें रखा अचार जल्दी ही ख़राब हो जायेगा।

प्रश्न 8 आम को पूरे साल चलाने के लिए उसका अचार, आमपापड़, चटनी, टॉफी, रस आदि, कई चीजें बनाते हैं। कुछ और खाने की चीजों के नाम लिखो जिन्हें लंबे समय तक चलाने के लिए उनसे अलग-अलग तरह की चीजें बनाते हैं।

उत्तर 8 टमाटर से सौस,

आटे से बिस्किट, नूडल्स और रस,

दालों से नमकीन, बड़ियाँ,

सेब और आलू के चिप्स,

गेंहूँ से निशास्ता,

यदि लेख उपयोगी लगा तो आपकी एक टिप्पणी  (comment) वांछित है।

महत्वपूर्ण लेख :-

 5th EVS Chapter 3-चखने से पचने तक और

 5th Hindi Chapter 5-जहाँ चाह वहाँ राह

यह लेख NCERT Solutions class 5th EVS chapeter-4 खाएँ  आम बारहों महीने (Khayen aam barhon mahine ).  (CBSE) यह सामग्री संदर्भ के लिए है। आप अपने विवेक से प्रयोग करें। – अध्याय में विद्यार्थी तथा परिस्थितिनुसार बदलाव जरूरी है। पुस्तकों में  चर्चा के लिए बहुत स्थान हैं। उनका प्रयोग अवश्य करें । यह उद्देश्य भी है। सिर्फ  लिखना पर्यावरण को समझने-समझाने का सही तरीका नहीं हो सकता। 

 

 


Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *